UPSC CSE Prelims 2020 General Studies Paper I - Your Success Depends on How Best You Utilized Your Knowledge While Facing It
Home

सिविल सेवा (प्रारम्भिक) परीक्षा 2020 सामान्य अध्ययन प्रश्न-पत्र I - आपकी सफलता इस बात पर निर्भर करती है कि इसका सामना करते हुए आपने अपने ज्ञान का उपयोग कैसे किया

Atul Kapoor Last Update on: 01 Oct 2021

Read in English


4 अक्टूबर 2020 को पहली पारी में आयोजित प्रारम्भिक परीक्षा 2020 सामान्य अध्ययन प्रश्न-पत्र I में बैठने वाले उम्मीदवारों ने अपने ज्ञान का उच्च प्रदर्शन किया होगा और एक अच्छे निष्पादन के साथ इनमें से कुछ उम्मीदवार सफलता प्राप्त कर अगले स्तर पर पहुँचने हेतु पात्रता पायेंगे.

Covid-19 की वजह से यह एक असाधारण स्थिति रही है जिसमें परीक्षा मूल तिथि 31 मई 2020 से स्थगित कर अंततः 4 अक्टूबर 2020 को आयोजित की गई.

जब हम आमतौर पर उम्मीदवारों द्वारा अपनाई जाने वाली रणनीतियों की बात करते हैं, अधिकांश उम्मीदवारों ने वर्ष 2019 के मध्य के आस-पास अपनी तैयारी शुरू की होगी और परीक्षा स्थगित होने के कारण, उम्मीदवारों को सिविल सेवा परीक्षा 2020 की तैयारी के लिए 4 और महीने मिल गए.

प्रारम्भिक परीक्षा के बारे में बात करें तो आपकी सफलता सामान्य अध्ययन प्रश्न-पत्र I के आधार पर कट-ऑफ पर निर्भर करती है क्योंकि सामान्य अध्ययन प्रश्न-पत्र 2 क्वालिफाईंग है.


सामान्य अध्ययन प्रश्न-पत्र I में आपकी सफलता पाठ्यक्रम के प्रभावी कवरेज के साथ प्राप्त ज्ञान पर निर्भर करती है कि प्रश्नपत्र का सामना करते समय आपने अपने ज्ञान और जागरूकता का कितना बेहतर उपयोग किया.

सामान्य अध्ययन प्रश्न-पत्र I का विश्लेषण

प्रश्न पत्रों पर एक नज़र यह महसूस कराती है कि यह पिछले कुछ वर्षों में यू.पी.एस.सी. द्वारा अपनाए गए दृष्टिकोण में निरंतरता का नमुना है.

सीधे प्रश्न पत्र की बात कें तो यह साधारण प्रश्न-पत्र नहीं हैं; यह अपेक्षित भी नहीं है. जब मूल्यांकन का उद्देश्य अगले स्तर के गंभीर उम्मीदवारों को शॉर्टलिस्ट करना है, तो आपको इस तरह के रचनात्मक और अभिनव दृष्टिकोण की आवश्यकता है और वर्ष से, यू.पी.एस.सी. इस मोर्चे पर निराश नहीं कर रहा है.

लोग कह सकते हैं, लेकिन मुझे लगता है कि इस तरह की परीक्षा के लिए उम्मीदवार जिस तरह की रणनीति तैयार करते हैं, उस पर सफलता का आधार निर्धारित होता है.

पूरी तरह से कोचिंग संस्थानों पर आश्रित रहने वाले उम्मीदवारों के लिए इस प्रकार के प्रश्न-पत्र को समझना आसान नहीं होगा.

हां, मैं यह दोहराता हूं कि जिन लोगों के पास NCERT पुस्तकों के साथ एक ठोस आधार है और वे समाचार-पत्रों के उत्सुक पाठक हैं, उन्हें सही उत्तरों को हल करने में आसानी रही होगी.

प्रारम्भिक परीक्षा सामान्य अध्ययन प्रश्न-पत्र I – मेरी सोच

प्रश्न पत्र का विश्लेषण करने के बाद, मैं परीक्षा की आवश्यकताओं और कुछ तकनीकों के बारे में बात करना चाहूंगा, जिन्होंने इतनी कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करते हुए काम किया होगा.

पहली बात जो मैं कई बार चर्चा करता हूं वह यह है कि एकीकृत दृष्टिकोण (मुख्य परीक्षोन्मुख तैयारी-रणनीति) को अपनाने वाले उम्मीदवारों के लिए इससे निपटना आसान रहा होगा.

केवल प्रारम्भिक परीक्षा केंद्रित उम्मीदवारों के लिए, यह वास्तव में चुनौतीपूर्ण रहा होगा.

हमेशा की तरह, यह एक लंबा प्रश्न-पत्र है क्योंकि अधिकांश प्रश्नों में इसके साथ कुछ कथन जुड़े हैं और इनके आधार पर आपको सही उत्तर को हल करना है.

प्रश्न को सही तरीके से पढ़ना और इसे दुबारा फिर से ध्यान से पढ़ना सबसे अच्छी रणनीति है.

उदाहरण के लिए, एक प्रश्न है “यदि आर.बी.आई. (RBI) प्रसारवादी मौद्रिक नीति का अनुसरण करने का निर्णय लेता है, तो वह निम्नलिखित में से क्या नहीं करेगा?

इस प्रश्न के साथ 3 कथन दिये गये हैं और आपको सही उत्तर चुनना है.

UPSC-CSE के आकांक्षी के रूप में, आप आर.बी.आई. (RBI) की मौद्रिक नीति के बारे में स्पष्ट हैं और इसका उत्तर देने का प्रयास करते हैं; लेकिन अगर आपने प्रश्न को सही नहीं पढ़ा है तो आप गलती कर सकते हैं.

यहाँ, परीक्षक ने नहीं हाइलाइट किया है और इटैलिक में दिया है जिसका ध्यान रखा जाना आवश्यक है.

एक बात जो मैं उल्लेख करना चाहूंगा, वह यह है कि अधिकांश प्रश्नों, यहां तक ​​कि कठिन प्रश्नों में भी कुछ संकेतक रहे जो निश्चित रूप से एक अच्छी तरह से तैयार किए गए उम्मीदवार की मदद करते हैं.

क्या यह कठिन है?

यदि कठिन नहीं है, तो आप इसे आसान भी नहीं कह सकते.

मेरी राय में यह मध्यम से कठिन प्रश्न-पत्र है. कुछ प्रश्नों को छोड़कर, अधिकांश प्रश्न का स्पष्ट उत्तर खोजना कठिन है.

मेरा अवलोकन उपलब्ध संसाधनों और मार्गदर्शन, जो आमतौर पर अधिकांश उम्मीदवारों द्वारा उपयोग किया जाते है, की सहायता से सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी करने वाले एक औसत उम्मीदवार को ध्यान में रख रहा है.

कुछ अत्यंत प्रतिभाशाली उम्मीदवारों के लिए, यह आपेक्षाकृत आसान हो सकता है; लेकिन वह वर्ग आम नहीं है.

यहां तक ​​कि अच्छी तरह से तैयार उम्मीदवारों के लिए स्पष्ट प्रश्न ढूंढना मुश्किल रहा होगा और पहली बार में होगा अगर कोई उम्मीदवार 40 प्रश्नों को पार कर जाता; यह उल्लेखनीय होगा.

तैयारी और अभ्यास के दौरान प्राप्त कौशल के साथ अगले 25-30 प्रश्नों पर काम करना आपके भाग्य का निर्धारण करेगा.

शेष 30-35 प्रश्न का प्रयास किया जा सकता है यदि आप उनमें से कुछ में शिक्षित अनुमान लगाने में सक्षम हैं.

जोखिम तभी लिया जाना चाहिये जब आपको लगे कि आप सुरक्षित क्षेत्र में हैं.

वैसे भी, सभी प्रश्नों के उत्तर देने से आपकी सफलता सुनिश्चित नहीं होती. इसलिए सावधान रहें.

नेगेटिव मार्किंग के साथ, आपकी हमेशा एक ऐसी स्थिति होती है जहां अंधा अनुमान आत्मघाती हो सकता है.

क्या काम किया जाये?

मध्यम से कठिन प्रश्नों को देखते हुए, उन्मूलन विधि सबसे अच्छी रणनीति होती.

कई प्रश्नों में आप कुछ ऐसे वाक्य पा सकते हैं जो प्रश्न से मेल नहीं खाते हैं. ऐसे गलत विकल्पों को खत्म करके, आप सही उत्तर पर पहुँचने में सक्षम हो सकते हैं.

यहां तक ​​कि, कठिन प्रश्नों का प्रयास करते समय, कई प्रतिभाशाली उम्मीदवार अंतर्ज्ञान पर भरोसा करते हैं जो प्रायः आंशिक जानकारी या कुछ संदर्भ पर आधारित होता है. ज्यादातर मामलों में, यह काम करता है क्योंकि आप आँख बन्द कर अनुमान नहीं लगा रहे हैं.

परन्तु ध्यान रहे कि इस तरह की प्रतिक्रियाओं को पहले प्रश्न-पत्र में चिह्नित कर लें और बाद में दूसरे दौर में ऐसे प्रश्नों को निपटा जाना चाहिए क्योंकि आपके पास समय की कमी है.

जब आप दोबारा इस तरह के प्रश्नों तक पहुँचेंगे, तब तक आपका आत्मविश्वास और शायद स्मरण भी आपको इसका सही उत्तर देने में मदद कर सकता है.

विश्लेष्ण में कुछ और आगे बढ़ें

अगर मैं घटकों की बात करूं, तो करंट अफेयर्स एक बार फिर से प्रश्न-पत्र पर हावी है. इतिहास, कला और संस्कृति और भूगोल, पर्यावरण, पारिस्थितिकी से प्रश्न जहां तुलनात्मक रूप से उत्तर पहचानने में आसान रहे हैं.

राजव्यवस्था और अर्थव्यवस्था से जुड़े कुछ प्रश्न थोड़ा पेचीदा रहे हैं और इनके सही उत्तर खोजने के लिए विषय-वस्तु की समझ और एप्लिकेशन की जरूरत रह होगी.

उन उम्मीदवारों के लिए, जो महामारी से संबंधित कुछ प्रश्नों की उम्मीद कर रहे होंगे; यू.पी.एस.सी. ने निराश नहीं किया है और वैक्सीन से संबंधित प्रश्न पूछा गया है.

Covid-19 देरी के कारण, कुछ उम्मीदवार कुछ घटकों जैसे कि राजव्यवस्था तथा आधुनिक भारत का इतिहास आदि विषयों के पारंपरिक भाग पर जोर रहने की उम्मीद कर रहे थे; ऐसे उम्मीदवारों को इस पेपर से थोड़ी निराशा होगी.

कट-ऑफ क्या होनी चाहिए?

मैं इस तरह की गहन प्रतिस्पर्धा के प्रयास के तुरंत बाद ऐसी गतिविधियों में विश्वास नहीं करता; इस काम के लिए कोचिंग संस्थानों को अनुमान लगाने दें.

मैं मानता हूं कि यह एक आसान प्रश्न-पत्र नहीं है और मुझे लगभग समान सेट-अप की उम्मीद है जैसा हमने पिछले दो वर्षों में देखा है.

मैं आपको केवल यह सुझाव दे सकता हूं कि आपको मुख्य परीक्षा के लिए आने वाली चीजों की एक झलक मिल गई है और एक संक्षिप्त विराम के बाद, आपको मुख्य परीक्षा के लिए अपनी अध्ययन-योजना के साथ वापस आना चाहिए.

सफलता की अग्रिम शुभकामनाएं!

 

लिंक पर क्लिक करें - प्रारम्भिक परीक्षा 2020 सामान्य अध्ययन प्रश्न-पत्र 1

 




Quick Tags

IAS Exam
Budding Civil Servants Zone
UPSC Results
IAS Toppers Strategy/Tips
Hindi & Vernacular Languages Candidates
IAS, Nothing out there compares!
IAS Champions: Influential voice to be heard
Toppers - PCS (UP, MP, Rajsthan, Bihar, Jharkhand)
RAS Toppers - Rajasthan PCS Exam
Judicial Services Toppers
Myths & Wrong Notions
Toppers Calling
News related to CSE
Beginners' Mindset
Current Affairs & Contemporary Issues - Hot Topics

Most Viewed Artciles

Hope is the biggest motivator; Be honest with yourself and Work Hard for Success; says Ankita Choudhary (AIR 14; CSE 2018)
Civil Services Examination 2011 Final Result (Merit-List)
Marks secured by Top 25 in Civil Services Examination 2021
Philosophy v/s Sociology; which one is better, more scoring?
Civil Services Examination 2009 Final Result
Believe in Self and Constant Support from Family and Friends worked for me; says Vishakha Yadav (AIR 6; CSE 2019)
Support and motivation from Parents and friends helped me perform; says Prem Ranjan Singh (AIR 62; CSE 2013)
My father has been my idol and source of inspiration, says Anshul Kumar (AIR 293; CSE 2015)
At the outset, Everyone just think of Rank among ‘Top 10’; Yes, it was a Dream for me as well - Srushti Jayant Deshmukh (AIR 5; CSE 2018)
Push Yourself to Perform at Your Best; says Jeydev C S (AIR 5; CSE 2019)