IAS Exam - Dreaming Success; Anybody can Achieve Anything
Home

IAS Exam - स्वप्न सफलता का; यहाँ कोई भी उम्मीदवार कुछ भी प्राप्त कर सकता है

admin Last Update on: 24 Jun 2020

Read in English


जी हाँ बिलकुल. हर वर्ष आप में से कई उम्मीदवार इस वाक्य को सच साबित करते हैं और बड़ी सफलता प्राप्त करके लक्ष्यों को पूरा करते हैं.

यह एक नियमित घटनाक्रम है और सिविल सेवा परीक्षा के परिणाम के साथ कई युवा अपने स्वप्न साकार करते हैं.

सिविल सेवा परीक्षा के अंतिम परिणाम में हमें कई उम्मीदवारों के लिए नई शुरुआत की झलक दिखाई देती है, जिसमें उनकी कड़ी मेहनत और ईमानदार प्रयासों के लिए पुरस्कृत किया जाता है.


अब आपको उच्च सफलता हेतु प्रेरित होने का समय है और उन उम्मीदवारों के लिए जो पहली बार सिविल सेवा परीक्षा का सामना करने जा रहे हैं, जो पहला सबक उन्हें सीखना चाहिए - सबसे पहले, अपना दृष्टिकोण बदलें और सोचने के तरीके तथा एक सकारात्मक व्यक्ति की तरह कार्य करने का प्रयास करें जिसका एकमात्र लक्ष्य यहां उच्च सफलता प्राप्त करना है.

और उन लोगों के लिए जो पिछले प्रयास/प्रयासों में सफल नहीं हो सके, उनके लिए भी, यह एक नई शुरुआत है.

यह समय है जब आप अपने बड़ों, शिक्षकों का आशीर्वाद लें और और वरिष्ठ उम्मीदवारों से कुछ अंतर्दृष्टि प्राप्त करें जिससे आपको आवश्यक बल मिले और ध्यान केन्द्रित कर तैयारी करें ताकि आप अंत में विजेता बन उभर सकें.

मौलिक सिद्धांतों के मजबूत आधार पर, आपको ज्ञान और जागरूकता बढ़ाने, संशोधित करने और जानकारी को अद्यतित करने और अभिव्यक्ति तथा प्रस्तुतिकरण में सुधार करने के प्रयासों पर गहन ध्यान देते हुए एक मेहनती प्रयास करना होगा.

जब आप इतनी तीव्र प्रतिस्पर्धा का सामना कर रहे हैं, तो आपके प्रयास अपने साथी प्रतिस्पर्धियों से बेहतर बनाने और शुरुआत से बढ़त बनाए रखने के लक्ष्य पर होने चाहिए.

इस परीक्षा की प्रकृति को समझें

यू.पी.एस.सी. द्वारा सिविल सेवा परीक्षा हेतु बहुत स्पष्ट परीक्षा-योजना दी गई है जिसमें परीक्षा के प्रत्येक चरण में प्रश्न-पत्रों के लिए निर्धारित पाठ्यक्रम चिन्हित है.

इसके लिए वांच्छित दृष्टिकोण आपके अकादमिक से बहुत अलग है; पाठ्यक्रम में सूचीबद्ध विभिन्न विषयों की तैयारी से अधिक, यह उम्मीदवारों की मानसिकता और कौशल, ज्ञान और स्वेच्छा से समग्र व्यक्तित्व के क्रमिक विस्तार की तैयारी है जो 'सिविल सेवक' के वांच्छित लक्षणों के अनुरूप हो.

आपको बुनियादी बातों, वैचारिक स्पष्टता और वर्तमान पहलुओं के उचित मिश्रण के साथ पाठ्यक्रम के व्यापक कवरेज की आवश्यकता होती है जो आपको गतिशील, अभिनव और रचनात्मक दृष्टिकोण की मांगों को विश्लेषणात्मक रूप से दृष्टिकोण प्रदान करने में सक्षम बनाता है जो यू.पी.एस.सी. ने हाल के दिनों में अपनाया है.

यदि आप गुणवत्तापूर्ण पुस्तकों और अध्ययन-सामग्री का उपयोग करते हैं तथा वैकल्पिक विषय की सही पसंद, योग्य मार्गदर्शन और परीक्षा-मानकों को स्वीकार करते हैं तो अपनी तैयारी को संभालना आपेक्षाकृत आसान होगा.

जब हम परीक्षा-मानक की बात करते हैं; इसका क्या मतलब है?

पाठ्यक्रम और पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों पर एक सरसरी नज़र आपके लिए चीजों को स्पष्ट करेगी.

परीक्षा में प्रश्नों की कठिनाई का स्तर, प्रश्न-पत्रों में पाठ्यक्रम के महत्वपूर्ण क्षेत्र जहाँ से अधिकाँश प्रश्न पूँछे जा रहे हैं और वर्तमान प्रवृत्तियों पर आपकी समझ परीक्षकों की अपेक्षाओं को प्रकट करती है.

एक पाठ्य-पुस्तकों पर आधारित दृष्टिकोण और समान संसाधनों तक ही सीमित होना जो हर किसी का उपयोग कर रहा है, उद्देश्य को पूरा नहीं करता है.

हाल के वर्षों में तो कई सफल उम्मीदवारों ने इसे 'पुस्तक-रहित परीक्षा' के रूप में लेबल किया है.

किसी विशेष-विषय को आपको अलग-अलग कोणों से देखना होगा, विषय से परिचित होने के अलावा, समकालीन सेट-अप में उस विषय की प्रासंगिकता पर आधारित समझ और विचारों को पिरो अपना पक्ष रखने की क्षमता से प्रश्नों को प्रभावी तरीके से सामना करने में मदद मिलेगी.

फिर, अभ्यास के समय गुणवत्तापूर्ण परीक्षण और मूल्यांकन के साथ, आप प्रश्न के मूल की पहचान करना शुरू कर देते हैं और प्रश्न की कठिनाई के साथ-साथ जटिलता को समझने लगते हैं.

आपका नियमित अभ्यास प्रारम्भिक परीक्षा में आपको गति के साथ परिशुद्धता से प्रश्नों को हल करने की दक्षता प्रदान करेगा.

इस तरह मुख्य परीक्षा का सामना करते समय यह प्रैक्टिस आपको परीक्षा-कक्ष में प्रश्नों का कुशलतापूर्वक प्रयास करने में सक्षम बनाती है; और आप संक्षिप्त और सटीक उत्तर लिख पाते हैं.

अभी भी आपके पास योजना में वांच्छित परिवर्तन करने को पर्याप्त समय है जिससे आप जो भी पढ़ें उसका निरन्तर मूल्यांकन करते रहें जिससे तैयारी में सुधार और उत्थान साथ-साथ चलता रहे.

आपको सभी को 'एक बड़ी सफलता' की शुभकामनाएं

 


Quick Tags

IAS Exam
Budding Civil Servants Zone
UPSC Results
IAS Toppers Strategy/Tips
Hindi & Vernacular Languages Candidates
IAS, Nothing out there compares!
IAS Champions: Influential voice to be heard
Toppers - PCS (UP, MP, Rajsthan, Bihar, Jharkhand)
RAS Toppers - Rajasthan PCS Exam
Judicial Services Toppers
Myths & Wrong Notions
Toppers Calling
News related to CSE
Beginners' Mindset
Current Affairs & Contemporary Issues - Hot Topics

Most Viewed Artciles

Preliminary Examination: Right time for an effective preparation
“If you are constantly challenging yourself, the progression is there for the taking” says Annapurna Garg (AIR 68; CSE 2015)
Main Examination: Question Paper's pattern transformed; 60 marks questions out of vogue
Sociology Question Paper I and II Civil Services (Main) Examination 2014
Kanishak Kataria is the new icon; tops the coveted Civil Services Examination 2018; Srushti Jayant Deshmukh is the topper among the women
Prelims 2012: Analysis of Paper I (General Studies)… a striking piece of work
Medical Science Question Paper I and II Civil Services (Main) Examination 2015
Career in Civil Services: Think that you have only one attempt and try to give your best
Availing next attempt: Better luck this time
I believe in giving my 100 per cent to one thing at a time, and it was Civil Service Exam; says, Debasweta Banik (AIR 14; CSE 2012)